ख़बरी दोस्त

ये हैं हनुमान जी के आठ चमत्कारी मंदिर

5-Apr-17 08:14ये हैं हनुमान जी के आठ चमत्कारी मंदिर
ये हैं हनुमान जी के आठ चमत्कारी मंदिर

ऐसा माना जाता है कि हनुमान जी चिरंजीवी हैं वो कलयुग में भी हमारे बीच मौजूद हैं। कहा जाता है कि हनुमान जी अपने भक्तों की हर मन्नत पूरी करते हैं उन्हें हर दुःख, दर्द और मुसीबत से बचाते हैं और उनकी झोली खुशियों से भर देते हैं और इसी बात के गवाह हैं ये मंदिर जहाँ हनुमान जी अपने भक्तों की प्रार्थना सुनते हैं और उनकी हर मुराद पूरी करते हैं। आइए जानते हैं इन मंदिरों के बारे में।

बिहार के दरभंगा जिले में है मनोकामना मंदिर

बिहार के दरभंगा जिले में स्थित ये हनुमान मंदिर बहुत ही प्राचीन और सिध्द है। इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां सच्चे दिल से हनुमान जी से जो भी मांगो वो मिलता है। इसलिए इस मंदिर का नाम ही मनोकामना मंदिर पड़ गया है। इस मंदिर में अपनी मन्नत पूरी करवाने का तरीका बहुत ही अनोखा और निराला है। लोग हनुमान जी के मंद‌िर पर अपनी मनोकामना ‌ल‌िखकर मंद‌िर की परिक्रमा करते हैं और मन ही मन प्रार्थना करते हैं क‌ि उनकी मुराद पूरी हो जाए।

प्रयाग के संगम तट पर है ये मंदिर

ये मंदिर प्रयाग की पावन भूमि पर संगम किनारे स्थित है। अपने आप में अनूठे इस मंदिर में हनुमान जी की लेटी हुई मूर्ति स्थित है, जो पूरे भारत में और कहीं नहीं है। ऐसा माना जाता है कि इस मन्दिर में हनुमान जी की मूर्ति पर लाल सिंदूर का लेप करने से वो भक्तों की सभी मुरादें पूरी कर देते हैं।

राजस्थान में स्थित है सालासार बालाजी हनुमान मंदिर

इस मंदिर की भी बहुत मान्यता है। सालासर बालाजी हनुमान मंदिर राजस्‍थान के चुरु ज‌िले में स्थित है। इस मंदिर की मूर्ति की विशेषता यह है कि हनुमानजी की यह प्रतिमा दाढ़ी व मूंछ से सुशोभित है। इस मंद‌िर में एक पेड़ है जिस पर भक्त जन नारियल एवं ध्वजा चढ़ाते हैं और लाल धागे बांधकर मन्नत मांगते हैं।

उज्जैन में स्थित अखंड ज्योति बजरंगबली मंदिर

मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में स्थित ये मन्दिर भी हनुमान जी के श्रेष्ठ मंदिरों में से एक है। नाम के अनुसार ही इस मंदिर की खासियत ये है कि यहां की ज्योति कभी नहीं बुझती है। कहते हैं कि यहां भक्त जो भी मांगते हैं वो उन्हे मिलता है। जो भी भक्त आटे से बना दीप जलाकर हनुमान जी के पास रखता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और सारे कष्ट दूर होते हैं।

कानपूर में स्थित पंचमुखी हनुमान मंदिर

उत्तर प्रदेश के कानपुर में पंचमुखी हनुमान जी का ये मन्दिर है, जहां हनुमान जी अपने पंचमुखी अवतार में सुशोभित हैं। ये मंदिर बहुत ही पुरातन है। यहां हनुमान जी को लड्डू का भोग लगाने की परंपरा है और इसी से हनुमान जी भक्तों पर प्रसन्न होकर उनकी मुरादें पूरी कर देते हैं।

इंदौर में स्थित उल्टे हनुमान जी का मंदिर

ये मंदिर अपने आप में अनोखा और दिव्य है। इसकी सबसे बड़ी खासियत ये है कि यहां हनुमान जी का स‌िर नीचे और पैर ऊपर है। इसल‌िए यह उलटे हनुमान जी कहलाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि अहिरावण से भगवान राम और लक्ष्मण को बचाने के लिए हनुमान जी ने यहीं से पाताल में प्रवेश किया था, इसलिए यहां उनका सिर ज़मीन की तरफ है। इस मंदिर में तीन या पांच मंगलवार हनुमान जी के दर्शन करने से भक्तों की सभी इच्छाएं पूरी होती हैं।

झांसी में स्थित है ये अनोखा हनुमान मंदिर

हनुमान जी का ये अनोखा मंदिर झांसी की ग्वालियर रोड पर स्थित है। ये एकलौता ऐसा मंदिर हैं जहां हनुमान जी स्त्री रूप में विराजमान हैं। लहंगा-चोली धारण किए फूल-मालाओं से लदे बजरंगबली का यह स्‍वरूप देखते ही बनता हैं।यहां भी हनुमान जी अपने भक्तों की सभी मुरादें पूरी करते हैं, और जो लोग कन्या संतान की इच्छा रखते हैं उन्हें हनुमान जी न‌िराश नहीं करते।

चित्रकूट में स्थित हनुमान धारा मंदिर

ये भी हनुमान जी का प्रसिध्द और चमत्कारी मंदिर है। यहां पहाड़ के सहारे हनुमान जी की एक विशाल मूर्ति के सिर पर दो जल कुंड स्थित हैं, जो हमेशा जल से भरे रहते हैं और उनमें से लगातार पानी बहता रहता है। इस धारा का जल हनुमान जी को स्पर्श करता हुआ बहता है। इसीलिए इसे हनुमान धारा कहते हैं। कहते हैं इस मंदिर के दर्शन से भौतिक ताप दूर होते हैं।




संबंधित पोस्ट