ख़बरी दोस्त

रॉक ऑन!! 2 फिल्म रिव्यू

5-Apr-17 16:33रॉक ऑन!! 2 फिल्म रिव्यू
रॉक ऑन!! 2 फिल्म रिव्यू

फिल्म: रॉक ऑन 2

डायरेक्टर: शुजात सौदागर

स्टारकास्ट: फरहान अख्तर, श्रद्धा कपूर, अर्जुन रामपाल, पूरब कोहली और प्राची देसाई

 

रॉक ऑन के बाद रॉक ऑन 2 करीब 8 साल के बाद आज रिलीज़ हो चुकी हैं। रॉक ऑन लोगों के लिए काफी अलग तरह की फिल्म थी क्योंकि म्यूजिक को ही ध्यान में रखकर पहली बार कोई ऐसी फिल्म बनी थी। उसका सीक्वल रॉक ऑन 2 भी आज रिलीज हुई है।फिल्म में वो सब कुछ है जो एक फिल्म में हिट होने के लिए चाहिए लेकिन रॉक ऑन के मुकाबले ये फिल्म अभी तक तो वो जादू नहीं चली पाई है जिसकी दर्शकों को उम्मीद थी।दरअसल फिल्म का ट्रेलर भी दर्शकों पर वो छाप नहीं छोड़ पाया जितना कि उम्मीद थी।

 

 

कहानी

आपको लग रहा होगा कि इस फिल्म की एक बैंड की कहानी है लेकिन ऐसा कुछ नहीं है। आपको बताते हैं कहानी कि फरहान अख्तर मुंबई छोड़ कर शिलांग (मेघालय) चला गया है, वहां पे खेती कर रहा है और वहां पे जो किसान हैं उनकी सहायता कर रहा है। फरहान का जो पैशन है सिंगिंग वो सारी छोड़ दी है और अर्जुन, पूरब, शहाणा, प्राची और उसका बच्चा वहां जाते हैं और वहां फरहान का जन्मदिन मानते हैं साथ ही उसको सब लोग मानते हैं कि खेती छोड़ के फिर से मुंबई चलो और सिंगिंग स्टार्ट करते हैं लेकिन वो मुंबई जाने से मना कर देता है। वहां पर श्रद्धा कपूर भी घूमती रहती है और क्यूँ घूमती रहती है ये बताना मुश्किल है। बाद में फरहान उनके मनाने पर मुंबई चला जाता है क्यूंकि उसको साथ में सिंगिंग करनी होती है। फिर इन सबके मेघालय और मुंबई के बीच जल्दी जल्दी से चक्कर लगते रहते हैं।

 

अब फरहान मुंबई में है और मेघालय में किसान बहुत परेशान होते हैं, वहां से किसी का फ़ोन आता है कि यहाँ की सरकार कुछ भी मदद नहीं कर रही है और पैसे की भी समस्या हो रही है और फरहान फिर सब कुछ छोड़ छाड़ के मेघालय चला जाता है लेकिन उसकी पत्नी प्राची जाने से रोकती है और कहती है कि तुम मेरे और बच्चे के बारे में सोचो लेकिन फरहान कहता है कि मेघालय में वहां किसानो को मेरी जरुरत है। फरहान वहां फिर से किसानो की मदद करने लगता है और मदद करने का बस एक ही तरीका रह जाता है कि वहां की पहाड़ियों में एक शो किया जाए लेकिन जब ये शो की तैयारी करते हैं तो वहां गुंडे आ जाते हैं और इनका शो होने नहीं देते और यह खबर सारे न्यूज़ चैनल वाले दिखाने लगते हैं और पूरे देश में फ़ैल जाती है और सारे लोग उनका शो देखने के लिए वहां जाते हैं जिससे वहां के किसानों की मदद की जा सके। अगर पूरी फिल्म का निष्कर्ष निकालें तो बैंड की कहानी नहीं लगती ये तो बस वहां के किसानों की कहानी लगती है।

 

अभिनय

फिल्म में कई अच्छे सितारे हैं लेकिन किसी ने भी अपनी एक्टिंग से लोगों पर प्रभाव नहीं छोड़ा है। फरहान ने भी ज्यादा अच्छी एक्टिंग नहीं की है और ना ही श्रद्धा कपूर ने। फिल्म में फरहान और श्रद्धा कपूर ने गाने गाये हैं लेकिन गानों ने कोई ख़ास असर नहीं डाला है। फिल्म की कहानी ही कुछ ख़ास नहीं है तो एक्टिंग भी कुछ नहीं की है।

प्राची देसाई के फिल्म में कुछ ही सीन हैं और वो भी सही से कर नहीं पाई हैं

अर्जुन रामपाल और पूरब कोहली सीन में जब ही आते हैं तब गाना गाना होता है, गाना गाने के बाद पता नहीं कहाँ चले जाते हैं।

 

डायरेक्शन

फिल्म शुजात सौदागर ने डायरेक्ट की है और कही न कही फिल्म की कहानी पे उनकी आलोचना होगी क्यूंकि फिल्म की न तो कहानी अच्छी है और न ही कास्टिंग अच्छी है। फिल्म बैंड के ऊपर बनी है लेकिन फिल्म में कही ऐसा लगा ही नहीं है कि ये रॉक ऑन का सीक्वल है।

 

फिल्म देखनी चाहिए या नहीं

फिल्म देखने की बात की जाए तो फिल्म की कहानी बैंड से मिलती जुलती तो है नहीं। फिल्म की कहानी भी कुछ अच्छी नहीं है क्यूंकि फिल्म में फरहान अपनी परिवार से ज्यादा किसानों से प्यार करता है। अगर आप इन स्टार्स के बड़े फैन हैं तो जा सकते हैं और नहीं तो कोई फायदा नहीं फिल्म देखने से। फिल्म देखने जाने से पहले आप इस लिंक पे क्लिक करके ट्रेलर देख सकते हैं-

 

फिल्म का ट्रेलर, गाने और लिरिक्स देखने के लिए यहाँ क्लिक करें–

 

 




संबंधित पोस्ट