ख़बरी दोस्त

सरकारी नौकरी चाहने वाले इसे जरुर पढ़े

5-Apr-17 14:47सरकारी नौकरी चाहने वाले इसे जरुर पढ़े
सरकारी नौकरी चाहने वाले इसे जरुर पढ़े

हाल ही में अभी महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कुलियों और सफाई कर्मचारी की नौकरी लिए विज्ञप्ति जारी गई जिनमे अधिकतर स्नातक और पीएचडी पास लोगों ने आवेदन किया है भारत में सरकारी नौकरी पाने के लिए उच्च वर्ग से लेकर निम्न वर्ग तक के परिवार के लोग सरकारी पाने की कोशिश करते हैं इससे यह पता चलता है कि लोगों में सरकारी नौकरी पाने की कितनी लालसा है और सरकारी नौकरी का कितना महत्व है

प्राइवेट नौकरी में वार्षिक पैकेज अच्छा होने कारण भी अधिकतर लोग सरकारी नौकरी करना चाहते हैं दिन प्रतिदिन सरकारी नौकरी की मांग बढती जा रही है अगर आप भी सरकारी नौकरी पाने की इच्छुक हैं तो आपको इन बातों पर ध्यान देना बहुत जरूरी है

 

क्या सरकारी नौकरी पक्की होती है?

आजकल कई सरकारी संगठन अनुबंध के आधार पर ही नौकरियां निकालते हैं ऐसी ही सरकारी संस्थाए अनुबंध के आधार पर ही उम्मीदवारों की भर्ती करती है उम्मीदवारों की भर्ती कुछ समय तक या किसी योजना के ख़त्म होने तक रहती है अक्सर योजना कम समय तक की होती है जैसे- अभी हाल ही में यूपीएसआरटीसी (UPSRTC) 100 से ज्यादा अनुबंध के तौर पर आवेदन आमंत्रित किए गये थे जिसमे काम काज को लेकर कई संशोधन लागू किये गए जिसमे सरकारी अधिकारियों के काम काज को ध्यान से देखा जायेगा और काम न करने वाले अधिकारी का अनुबंध समाप्त कर उस पर तुरंत करवाई की जा सके

 

क्या सरकारी नौकरियों में 'कोई निश्चित लक्ष्य नहीं' होता है?

क्योंकि अब सरकारी अधिकारी जो काम से जी चुराते हैं उनके लिए अब सरकारी दरवाजे सरकार ने बंद करने शुरू कर दिए है अपना कर्तव्य को सही रूप से निभाने वाले अधिकारी ही प्रोमोशन और अन्य लाभ के हकदार होंगे सरकारी विभाग ने अपने काम को समय से पूरा करने के लिए निजी कम्पनियों का इस्तेमाल का विचार कर रही है

 

क्या सरकारी नौकरियों में वेतन बहुत अधिक दिया जाता है?

असल बात तो ये है कि प्राइवेट नौकरी की तुलना में सरकरी नौकरी में वेतन ज्यादा मिलता है इसलिए प्राइवेट नौकरी करने वाले लोग अपनी नौकरी को छोड़कर सरकारी नौकरी के पीछे भागते हैं

 

क्या सरकारी नौकरियों में काम के 8 घंटे' निश्चित होते हैं?

जो लोग मानते हैं कि सरकारी नौकरी आरामदायक होती है और सोचते हैं कि 9 से 5 बजे तक होती है तो वो इस गलतफहमी को अपने दिमाग से निकाल दे, अगर उच्च अधिकारी की काम काज को देखा जाए तो वो 10 से 11 घंटे काम करते हैं कभी कभी तो इससे भी ज्यादा हो जाता है अब सरकारी नौकरी में भी काम प्राइवेट नौकरी की तरह ही काम होते हैं अब सरकारी नौकरी से जुडी आम अवधारणाओं से ऊपर उठने की जरूरत है

 




संबंधित पोस्ट