ख़बरी दोस्त

118 सालों से जंजीरों में कैद है ये पेड़

5-Apr-17 16:44118 सालों से जंजीरों में कैद है ये पेड़
118 सालों से जंजीरों में कैद है ये पेड़

आप सब लोगों ने चोर और मुजरिमों को गिरफ्तार होते हुए देखा होगा लेकिन आज जो हम यहाँ बता रहे हैं उसे देखकर आप हैरान हो जायेंगे। क्या आपने कभी पेड़ की गिरफ्तारी के बारे में सुना है वो भी पिछले 118 सालों से, शायद नहीं सुना होगा। आपको बता दें कि यह पेड़ पाकिस्तान में है जो 1898 से गिरफ्तार करके मतलब मोटी - मोटी जंजीरों से बाँध के रखा गया है। arrested-tree-in-peshawar

आखिर इस पेड़ की गिरफ्तारी क्यूँ हुई

इस पेड़ की गिरफ्तारी के पीछे भी बड़ी ही दिलचस्प कहानी है। पाकिस्तानी अखबार डॉन की रिपोर्ट के अनुसार यह कहानी बताई गयी है और यह पेड़ पाकिस्तान के लांडी कोटल आर्मी में लगा है।

arrested-tree-in-peshawar-paakistaan-3

एक दिन ब्रिटिश अफसर ‘जेम्स स्क्वेड’ वहाँ टहल रहे थे और जेम्स स्क्वेड ने शराब पी रखी थी। जब जेम्स वहाँ स्थित एक बरगद के पेड़ के पास से गुजरे तो उन्हें लगा कि वह बरगद का पेड़ चलता हुआ उनकी ओर आ रहा है और वह ऐसा देखकर घबरा गए और तुरंत ही उन्होंने सैनिकों को आदेश दिया कि इस बरगद के पेड़ को गिरफ्तार कर लिया जाए। इसके बाद सैनिकों ने उस पेड़ को गिरफ्तार कर लिया और उसे मोटी - मोटी जंजीरों से जकड लिया।

तख्ती पर लिखा हैं 'आई एम अंडर अरेस्ट'

आपको बता दें कि यह पेड़ 1898 से अभी तक जंजीरों से जकड़ा हुआ है और इस पेड़ पे एक तख्ती लटकी हुई है और तख्ती पर 'आई एम अंडर अरेस्ट' लिखा है, जैसाकि आप खुद तख्ती पे लिखा हुआ देख सकते हैं।

tree-name

जंजीर नहीं हटाने का कारण

इस पेड़ से जंजीर इसलिए नहीं हटाई ताकि अंग्रेजी शासन की क्रूरता को दर्शाया जा सके। अब यह जगह पाकिस्तान में पर्यटक स्थल सा बन गया है, लोग इस पेड़ को देखने के लिए आते हैं।

arrested-tree-in-peshawar-paakistaan  




संबंधित पोस्ट