ख़बरी दोस्त

मेट्रो में आप भी रोज मिलते हैं इन नमूनों से

दिल्ली की लाइफ लाइन कही जाने वाली दिल्ली मेट्रो में अजीब अजीब लोग सफ़र करते हैं अगर आप भी मेट्रो का इस्तेमाल करते हैं तो देखिये आप के साथ कैसे कैसे लोग सफ़र करते हैं  शायद आप भी इनमे से एक हो सकते हैं

कुम्भकरण

ये वो लोग होते हैं जिन्हें मेट्रो में घुसते ही नींद आती है और सोते हुए अपने बगल वाले पर गिरते रहते हैं जिसे सीट नहीं मिलती वो फर्श पर ही लोट जाता है

sleeping

थोडा थोडा शिफ्ट हो जाइए

इस मामले में लड़कियां और आंटियां आगे हैं 7 की सीट पर पहले ही 9 बैठे होते हैं इस पर एक लड़की गरीब सा मुंह बनाके कहेगी एक्सक्यूज-मी थोडा-थोडा शिफ्ट हो जायेंगे प्लीज

adjustpm

लवर्स

ये लोग अपनी पूरी यात्रा फ़ोन पर बात करते हुए करते हैं जानू, सोना और बाबू इनके प्रिये शब्द हैं जैसे- मेरे बाबू ने क्या खाया आज, मेरे जानू ने पढाई कर ली क्या , वगेहरा-वगेहरा, पहले लोग प्यार में अंधे हुआ करते थे आजकल तोतले हो रहे हैं , अले अले मेले सोना नालाज क्यूँ होते हो जैसे शब्दों से पकाने वाले भी खूब मिलेंगे

sonam

म्यूजिक लवर्स

कानो में टोटी घुसेड़े इनको मेट्रो में आसानी से देखा जा सकता है  वैसे तो इस प्रजाति के प्राणी हर जगह पाए जाते हैं लेकिन  मेट्रो में इनकी आबादी काफी बढ़ गई है हर कोई अपना फ़ोन चमकाता दिखता है  सैमसंग, सोनी, और कटे सेब वाला फ़ोन इन दिनों चलन में है

 musiclovers

राजीव चौक

अगर आपने नीली या पीली लाइन में सफ़र किया है तो आपको अच्छे से पता होगा की राजीव चौक स्टेशन कितना व्यस्त रहता है यहाँ मेट्रो में उतरना या चढ़ना किसी किले को जीतने से कम नहीं है आप केवल गेट की तरफ खड़े हो जाईए पीछे से भीड़ के रूप में एक तूफ़ान आएगा जो आपको उठा के बहार फेक देगा आपको बस गिरने से बचना है

rajiv-chowk

गेट खुलते ही हर कोई उसैन बोल्ट बन जाता है

मेट्रो का गेट खुलते ही कुछ लोग,  AFC गेट की तरफ इस तरह दौड़ लगते हैं कि उसैन बोल्ट भी पीछे रह जाए, इसमें ऑफिस के लिए लेट होने वालो की संख्या ज्यादा होती है

bolt.jpg  




संबंधित पोस्ट